Indian Women Become American Nurse:भारतीय महिलाओं के लिए आ गई ये बड़ी खुशखबरी, इस संस्थान की कोशिश से मिल जायेंगी अमेरिकन नर्स की नौकरी!

Rate this post

Indian Women Become American Nurse: भारतीय नर्सों हेतु अमेरिका जैसे देश में एक प्रक्रिया प्राप्त करना शायद अब कम जटिल होगा |यह पहल की गई है अमेरिका के ह्यूस्टन में राजपुरोहित नेटवर्क की सहायता से । अमेरिका के ह्यूस्टन में राजपुरोहित इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्निकल एजुकेशन “आरआईटीई कॉलेज”और “ह्यूस्टन इंस्टीट्यूट ऑफ ग्लोबल हेल्थ” “हाई” का उद्घाटन समारोह किया गया है।

Indian Women Become American Nurse

जालोर-सिरोही सांसद देवजी भाई पटेल द्वारा इन दोनों संस्थानों का उद्घाटन किया गया। भारतीय नर्स को अमेरिका के अंतर्गत ईएसएल और एनसीएलईएक्स परीक्षा देनी पड़ती  है जिससे जुड़ी  शिक्षा और निर्देशन “राइट कॉलेज” की सहायता से ली जा सकती है।

भारतीय नर्सें इस संस्थान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन रूट से जुड़ सकती हैं, उसके बाद परीक्षा से जुड़े मार्गदर्शन हेतु संस्थान की सहायता से कई मॉक टेस्ट तैयार किए जा सकते हैं और फिर ये संभव होगा। ईएसएल और एनसीएलईएक्स परीक्षा देना और अमेरिका में एक नर्स के तौर पर उभरना आसान होगा।

ABVP Opposed The Fee Increase: एबीवीपी ने फीसवृद्धि का विरोध करके दिखाया सराकर को आईना, केंद्रीय व‍िश्वविद्यालयों में भी कर दी स्टूडेंट इलेक्शन की मांग, पूरी ख़बबर पढ़े यहाँ विस्तार से!

भारतीय स्टूडेंट्स हेतु हर तरह की मदद

अमेरिका स्थित ह्यूस्टन में बसे भारतीय नेटवर्क के डॉ. दिनेश राजपुरोहित ग्राम बागरा जिला जालोर के ही रहने वाले हैं। डॉ. दिनेश इस संस्थान के अध्यक्ष हैं और भारतीय नेटवर्क के कई समूहों में सक्रिय हैं |डॉ. दिनेश राजपुरोहित द्वारा एक चैनल को दिए गये इंटरव्यू में  बताया गया कि कैसे यह संस्थान आने वाले भविष्य में भारतीय कॉलेज से जुड़े छात्रों को हर प्रकार की सहायता प्रदान करेगा।

उनके मुताबिक अमेरिका आज के समय में लगभग 12 लाख नर्सों की कमी से जूझ रहा है, सांसद देवजीभाई पटेल द्वारा बताया गया कि राजस्थान, गुजरात, केरल और भारत के अन्य राज्यों की सहायता से इस कमी को दूर किया जा सकता है।

नर्सिंग और मेडिकल सहायक  कोर्स ह्यूस्टन इंस्टीट्यूट ऑफ ग्लोबल हेल्थ के अंतर्गत चलाए जा सकते हैं। बहुत जल्द ही दोनों इंस्टीट्यूट को अंतर्राष्ट्रीय स्टूडेंट्स छात्रों को वीजा देने से जुड़ी मान्यता भी मिल जायेंगी। परन्तु अभी के समय में इन संस्थानों की पहचान टेक्सास राज्य वर्कफोर्स कमीशन के अंतर्गत मान्यता प्राप्त हैं।

 

Leave a Comment